G-8QW5MM8L67

इस्लामिक संगठन की महिलाओं से अपील- जब तक सरकार आदेश नहीं देती, तब तक बुर्का न पहनें



कोलंबो. श्रीलंका में इस्लाम के सबसे बड़े संगठन ऑल सीलोन जमीयतुल उलमा ने मुस्लिम महिलाओं से बुर्का न पहनने की अपील की है। संस्था के प्रवक्ता फजिल फारूक ने मंगलवार को कहा कि जब तक सरकार आदेश नहीं देती, तब तक महिलाएं बुर्का पहनने और सार्वजनिक जगह परकिसी भी तरह से चेहरा ढंकनेसे बचें। दरअसल, इसी साल 21 अप्रैल को ईस्टर के दिन हुए बम धमाकों में 11 भारतीय समेत 258 लोगों की जान गई थी।

फारूक ने कहा, ईस्टर बम धमाकों के बाद मुस्लिमों खासकर मौलवियों के साथ हिंसा की घटनाएं हुईं थीं। यह फिर से शुरू हो गई हैं। हम मुस्लिम महिलाओं से अपील करते हैं कि वे अपने धार्मिक लिबास पहनने में जल्दबाजी न करें। सरकार के आदेश का इंतजार करें। हाल ही में सरकार ने पिछले चार महीनों से लगा आपातकाल खत्म किया है।

श्रीलंका में चेहरा ढंकने पर प्रतिबंध
श्रीलंका में महिलाओं के किसी भी तरह से चेहरा ढंकने पर प्रतिबंध लगाया जा चुका है। राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने 29 अप्रैल को आदेश जारी कर मुस्लिम महिलाओं कोकिसी भी तरह से चेहरा ढंकनेऔर बुर्का पहननेपर प्रतिबंध लगा दिया था। राष्ट्रपति कार्यालय के बयान के मुताबिक- प्रतिबंध का ताल्लुक देश की सुरक्षा से है। व्यक्ति का चेहरा ढंका होने से उसकी पहचान में मुश्किल होती है।

ईस्टर के दिन 8 सीरियल धमाके हुए थे
ईस्टर के दिन तीन चर्च और पांच होटलों में कुल 8 सीरियल बम धमाके हुए थे। धमाकों की जिम्मेदारी इस्लामिक जिहादी संगठन नेशनल तौहीद जमात (एनटीजे) और इस्लामिक स्टेट (आईएस) ने ली थी। इसके बाद से ही श्रीलंका में इस्लामी कट्टरपंथ खत्म करने के लिए सख्त फैसले लिए जा रहे हैं। सरकार ने 11 मई को दिए नए आदेश में कहा था कि देश में मौजूद सभी मस्जिदों में जो उपदेश सुनाए जाते हैं, उनकी एक कॉपी जमा कराना जरूरी है।

DBApp

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


प्रतीकात्मक फोटो।

Source: bhaskar international story

Visits:124

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *