कोर्ट ने दुष्कर्म पीड़ित को बदसूरत बताते हुए 2 दोषियों को बरी किया, देशभर में फैसले का विरोध

content-single



रोम. इटली की एक अदालत ने दुष्कर्म के दो दोषियों को बरी कर दिया। यह फैसला जिस पैनल ने सुनाया, उसमें सभी जज महिलाएंथीं। पैनल ने तर्क दिया कि पीड़ितके साथ दुष्कर्म हो ही नहीं सकता क्योंकि वह बदसूरत है और कुछ पुरुषों जैसी दिखाई देती है। फैसले के खिलाफ देशभर में प्रदर्शन हो रहे हैं। न्याय मंत्रालय ने फैसले की जांच के आदेश दिए हैं।

  1. दुष्कर्मियों को बरी करने का फैसला इटली के हाईकोर्ट ने सुनाया। गुस्साए लोगों ने अदालत के बाहर प्रदर्शन किया और ‘शर्म आनी चाहिए’ के नारे लगाए। मामला 2015 का है। एनकोना इलाके की पेरुवियन मूल की महिला ने दो लोगों पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था।

  2. 2016 में एक निचली अदालत ने पेरुवियन मूल के 2 लोगों को दुष्कर्म का दोषी करार दिया था। 2017 में मामला एक अपीलीय कोर्ट की महिला जजों की पैनल के सामने पेश हुआ। इस कोर्ट ने निचली अदालत के फैसले को पलट दिया।

  3. महिला जजों के पैनल ने कहा कि जिन्हें दोषी ठहराया गया है, उन्हें महिला बदसूरत लगी। पीड़ितपुरुषों जैसी लगती है, लिहाजा उसके साथ दुष्कर्म नहीं हो सकता।

  4. पीड़ितकी वकील सिंजिया मोलीनारो ने कहा- लगता है कि प्रक्रिया में चूक की वजह से दोषियों को छोड़ दिया गया। हालांकि मोलीनारो ने यह भी कहा कि अपीलीय कोर्ट के फैसले को स्वीकार नहीं किया जा सकता। एक दोषी ने बयान दिया था कि महिला काफी बदसूरत थी और फोन पर मैंने उसका नाम लुटेरे के तौर पर सेव किया था।

  5. मोलीनारो ने यह भी बताया कि पेरू से लौटने के बाद से पीड़ितकी हालत ठीक नहीं है। उसके प्राइवेट पार्ट में काफी तकलीफ है और उसे टांके भी लगाए गए हैं।

  6. उधर, न्याय मंत्रालय ने फैसले की जांच के आदेश दिए हैं। मोलीनारो के मुताबिक- जांचकर्ता कोर्ट में जाकर देखेंगे कि सुनवाई के दौरान किस बात का उल्लंघन हुआ।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      कोर्ट के फैसले के खिलाफ लोग सड़कों पर आए।


      all-female judge panel cleared 2 men of sexual assault says victim was too ugly to be raped


      all-female judge panel cleared 2 men of sexual assault says victim was too ugly to be raped

      Source: bhaskar international story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »