Uncategorized

तीन दोस्तों ने खोला हेल्थ फूड रेस्टोरेंट, 12 साल में खड़ा किया 7 हजार करोड़ रु. का बिजनेस



वाॅशिंगटन.निकोलस जामेट, जोनाथन नेमान और नथानिएल रू 2006 में वाशिंगटन की जॉर्जटाउन विवि में पढ़ाई कर रहे थे। तीनों दोस्त फिटनेस को लेकर सजग रहते थे और बाहर जंक फूड खाने से परहेज करते थे। लेकिन, उनके सामने समस्या यह थी कि शहर में कहीं भी किफायती दर पर हेल्दी फास्टफूड का कोई रेस्टोरेंट नहीं था। इस मुश्किल के बीच उन्हें बिजनेस का अवसर भी दिखाई दिया। उन्होंने अपना रेस्टोरेंट खोलने का प्लान बनाया और लोकेशन के तौर पर जॉर्जटाउन के ही बंद पड़े एक पब को चुना। उन्होंने तय किया कि इस रेस्टोरेंट में सिर्फ सलाद बेचे जाएंगे।

लोगों के स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता से बढ़ी लोकप्रियता

कुछ ही महीनों में उन्होंने दोस्तों और परिवार के सदस्यों की मदद से 3 लाख डॉलर (करीब दो करोड़ रुपए) का निवेश भी जुटा लिया। अगस्त, 2007 में तीनों ने स्वीट ग्रीन नाम का हेल्दी फास्टफूड रेस्टोरेंट खोला। रेस्टोरेंट के स्टाफ के तौर पर कॉलेज के ही कुछ छात्र हायर किए। रेस्टोरेंट को लोकप्रिय बनाने के लिए वे खुद शहर के अलग-अलग हिस्सों में जाकर इसका प्रचार करते थे। उन्होंने रेस्टोरेंट का एक वेबसाइट भी बना लिया था।जोनाथन बताते हैं, ‘जल्द ही हमारे रेस्टोरेंट के बाहर लोगों की लाइन लगने लगी। जैसे-जैसे लोगों में स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता बढ़ रही थी हमारे रेस्टोरेंट की लोकप्रियता भी बढ़ने लगी।

अमेरिका के अलग-अलग शहरों में 90 स्वीट ग्रीन रेस्टोरेंट

जल्द ही ऐसा समय आ गया जब हम एक आउटलेट से शहरवासियों की डिमांड पूरी करने में असमर्थ होने लगे। फिर हमने वाॅशिंगटन में ही दूसरा रेस्टोरेंट खोला। आगे और रेस्टोरेंट खोलने के लिए हमें बड़े निवेश की जरूरत थी। लगातार प्रयास के बल पर वे फूड बिजनेस से जुड़े बड़े उद्योगपति वाॅल्टर रॉब, अरबपति निवेशक स्टीव केस और फ्रांस के शेफ डेनिएल बोलुद को निवेश के लिए मनाने में सफल रहे। आज अमेरिका के अलग-अलग शहरों में 90 स्वीट ग्रीन रेस्टोरेंट हैं। 2019 में वे 20 और रेस्टोरेंट खोलने जा रहे हैं। 2016 में हेडक्वार्टर वाॅशिंगटन से लॉस एंजिल्स शिफ्ट कर दिया गया।

सिर्फ फल व सब्जियां खरीदता है रेस्टोरेंट
निकोलस कहते हैं कि स्वीट ग्रीन ने शुरुआत में ही फैसला कर लिया था कि फल और सब्जियों की खरीदारी सीधे किसानों से की जाएगी। साथ ही सिर्फ अमेरिकी किसानों से खरीद की जाएगी। इस वजह से अगर किसी फल या सब्जी की पैदावार किसी सीजन में कमजोर रहती है तो रेस्टोरेंट में उससे संबंधित सलाद नहीं बेचे जाते हैं।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


रेस्टोरेंट किसानों से सिर्फ फल और सब्जियां खरीदता है।

Source: bhaskar international story