ब्रिटिश युवती का पहनावा देखकर फ्लाइट के स्टाफ ने कहा- शरीर ठीक से ढंकें या विमान से उतरें

content-single



लंदन.इंग्लैंड के बर्मिंघम में 21 साल की यात्री को ब्रिटिश एयरलाइन के स्टाफ ने फ्लाइट से सिर्फ इसलिए उतरने की धमकी दी, क्योंकि उसने क्रॉप टॉप पहना था। फ्लाइट में बैठने के बाद स्टाफ ने महिला यात्री से कहा, ‘वह अपने कपड़े बदल लें या फिर विमान से उतर जाएं।’ घटना को लेकर पीड़िता ने ट्विटर पर एक पोस्ट किया। इसके बाद विरोध हुआ तो एयरलाइन को महिला यात्री से माफी मांगनी पड़ी।

21 साल की एमिली ओ कॉनर बर्मिंघम से स्पेन के आईलैंड जा रही थीं। एमिली ने अपने पोस्ट में लिखा, ‘ये मेरे जीवन का सबसे ज्यादा लिंगभेदी, गलत, शर्मनाक अनुभव था। मैंने दूसरे सहयात्रियों से पूछा भी कि उन्हें मेरी ड्रेस से तकलीफ है क्या? सिर्फ एक शख्स ने कहा कि क्रॉपटॉप के ऊपर चुपचाप एक जैकेट पहन लो। जब सहयात्री ने मेरे साथ ये बदतमीजी की तब स्टाफ वहीं खड़ा था। लेकिन किसी ने मेरा साथ नहीं दिया। क्रू मेंबर के रवैये को देखते हुए मेरी बहन ने जैकेट दी।’ बतौर एमिली, ‘जब तक मैंने जैकेट पहन नहीं ली, तब तक स्टाफ वहीं खड़ा रहा। इतना ही नहीं मुझसे दो सीट पीछे बैठा एक यात्री शॉर्ट पैंट्स और बनियान पहने था। लेकिन स्टाफ ने उससे कुछ नहीं कहा। इस तरह का भेदभाव मैंने पहली बार देखा था।’

एयरलाइन ने कहा- स्टाफ को ढंग से पेश आना चाहिए था

थॉमस कुक एयरलाइंस ने मंगलवार की इस घटना पर माफी मांगी है। एयरलाइंस ने कहा, ‘आमतौर पर यात्रियों के लिए एक उपयुक्त पोशाक नीति होती है। यह बिना किसी भेदभाव के पुरुषों और महिलाओं दोनों पर लागू होती हैं। एमिली के साथ हुआ बर्ताव गलत था। फ्लाइट के स्टाफ को बेहतर ढंग से पेश आना चाहिए था।’

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


युवती ने यात्रा के समय पहने कपड़ों पर अपनी फोटो साझा की।

Source: bhaskar international story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »