37 साल के नेवी सील्स कमांडो को दमकल विभाग ने नौकरी नहीं दी, कहा- उम्र ज्यादा है

content-single



न्यूयार्क. 37 साल के नेवी सील्स कमांडो शॉन डॉनोवन को न्यूयॉर्क के दमकल विभाग ने उम्र ज्यादा होने का हवाला देकर नौकरी देने से इनकार कर दिया। हालांकि, कमांडो ने महकमे की शारीरिक और लिखित परीक्षा को पास कर लिया था, लेकिन उन्हें बताया गया कि जो आयु सीमा नौकरी के लिए तय की गई है, उससे उनकी उम्र ज्यादा है। उन्होंने सिविल सर्विस कमीशन में याचिका दायर की है। इसका फैसला जुलाई तक आने की उम्मीद है। उनका कहना है कि केस हारे तो फेडरल कोर्ट में अपील करेंगे।

2017 में नौकरी के लिए किया था आवेदन
शॉन ने 2017 में नौकरी के लिए आवेदन किया था। अभी वे नेवी सील्सकी कैलिफोर्निया यूनिट में बतौर स्पेशल ऑपरेशंस चीफ काम कर रहे हैं। शॉन को उम्मीद है कि जब वह 2020 में सेना से रिटायर होंगे तब न्यूयॉर्क के दमकल विभाग में नौकरी करने का अवसर मिलेगा।

नौकरी के लिए न्यूयॉर्क दमकल विभाग में आवेदन करने की उम्र 29 साल है। सेना से रिटायर लोगों के लिए महकमे ने कुछ विशेष प्रवधान तय किए हैं। इस तरह के लोगों को छह साल तक की छूट दी जा सकती है। छूट कितनी मिलेगी इसके लिए संबंधित व्यक्ति का सेना में नौकरी का रिकार्ड देखा जाता है।

शॉन का कहना है कि उसकी जन्मतिथि 11 सितंबर 1981 है। जब उन्होंने आवेदन किया तो सभी दस्तावेजों में इसका प्रमाण पत्र लगाया था। उसके बाद उन्हें लिखित परीक्षा में बैठने का मौका दिया गया और उनका मेकअप टेस्ट भी हुआ। उनका सवाल है कि क्या न्यूयार्क दमकल महकमे को यह सारी चीजें दिखाई नहीं दीं?उन्हें 2019 में बताया गया कि उम्र ज्यादा होने की वजह से उनका आवेदन खारिज कर दिया गया है।

दूसरे दमकल विभागों ने शॉन को ऑफर दिया
हालांकि, शॉन की तरह कई दूसरे सैनिक भी हैं, जिन्हें उम्र के आधार पर न्यूयार्क दमकल महकमे में नौकरी नहीं मिल सकी, लेकिन उनका मामला सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। यही वजह है कि अमेरिका के दूसरे शहरों के दमकल विभागों ने शॉन को नौकरी की पेशकश की है।

लादेन को नेवी सील्सने मारा था
नेवी सील्सने ही आतंकी ओसामा बिन लादेन को पाकिस्तान के एबटाबाद में जाकर मारथा। इस ऑपरेशनमें शामिल कमांडो अक्सर खतरनाक मिशन पर भेजे जाते हैं। शॉन नेवी सील्सकी तरफ से चार लड़ाइयों में अपने हाथ दिखा चुके हैं।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


शॉन डॉनोवन

Source: bhaskar international story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »