कुलभूषण को दूसरा कॉन्सुलर एक्सेस नहीं देगा पाक, भारत ने कहा- आईसीजे का आदेश पूरी तरह लागू करवाएंगे

content-single



इस्लामाबाद.पाकिस्तान ने गुरुवार को भारतीय राजनायिकों को कुलभूषण जाधव से दूसरी बार मिलने की अनुमति देने से इनकार कर दिया। पाक के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैजल ने कहा था कि जाधव को दूसरी बार कॉन्सुलर एक्सेस नहीं दिया जाएगा। इस पर भारतीय ने कहा है कि हम इस मामले में अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) के आदेश को पूरी तरह लागू करवाने की कोशिश करेंगे। भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता र‌वीश कुमार ने कहा कि हम डिप्लोमैटिक चैनल्स के जरिए पाक के साथ संपर्क में हैं।

इससे पहले आईसीजे के आदेशके बाद 2 सितंबर को पाकिस्तान ने कुलभूषण को कॉन्सुलर एक्सेस दिया था। लेकिन, इस मुलाकात के बाद भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा था कि एक घंटे की इस मुलाकात के दौरान यह स्पष्ट था कि कुलभूषण अत्यधिक दबाव में थे। उन पर पाक के झूठे दावे को सही साबित करने का दबाव दिखाई दे रह था। कुलभूषण 3 साल से ज्यादा वक्त से पाक जेल में बंद हैं।

जुलाई में आईसीजे ने कॉन्सुलर एक्सेस देने का आदेश दिया

भारत के रिटायर्ड नेवी अफसर जाधव को पाक की सैन्य अदालत ने अप्रैल 2017 में जासूसी और आतंकवाद के आरोप पर मौत की सजा सुनाई थी। इसके बाद भारत मामले को हेग (नीदरलैंड) स्थित अंतरराष्ट्रीय अदालत (आईसीजे) में ले गया था। कोर्ट ने जाधव की फांसी पर रोक लगा दी थी। इस साल जुलाई में आईसीजे ने पाक को आदेश दिया था कि वह बिना देर किए जाधव को कॉन्सुलरएक्सेस मुहैया करवाए।

आईसीजे के फैसले के 11 दिन बाद पाक ने काउंसल एक्सेस देने का निर्णय लिया था
पाक विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने रविवार को कहा था कि जाधव को वियना कन्वेंशन के तहत काउंसलर एक्सेस मिलेगा। उन्होंने कहा यह एक्सेस आईसीजे के फैसले और पाकिस्तान के कानून के तहत दिया जाएगा। पाकिस्तान सरकार ने आईसीजे के फैसले के 11 दिन बाद कुलभूषण को सशर्त एक्सेस देने का निर्णय लिया था।

DBApp

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Pakistan: There would be no second consular access to Kulbhushan Jadhav, Kulbhushan jadhav news updates


पाक विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉ. मोहम्मद फैजल।

Source: bhaskar international story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »